Monday, October 31, 2016


Fashions

Fashions today rule the world. We are living in the age of fashions. Young boys and girls are mad after fashions. The word “fashion” is on the lips of every man, woman and child. After all, what is fashion? Oscar Wilde, declared, “Fashion is what one wears oneself. What is unfashionable is whit other people wear.” Fashion, in fact, means to took to look attractive and beautiful. Even in the past young girls adorned themselves with all kinds of flowers and wreaths. A famous saying goes: “He or she who goes against fashion is himself or herself its slave.” No wonder young boys and girls have installed in their hearts gods and goddesses of fashion. Today, everybody likes to be in the swim of fashions. Young boys and girls try to look smart and active. College students are very particular about their dress. They spend more money on acquiring the latest “cut” and “wear” than they spend on books. Even elderly people try to look younger than their age. Boys keep long hair whereas girls go bobbed. The way they dress up and do their hair provoke laughter of the on-lookers. In fact we are becoming fashion addicts. The fashionable people vie with one another for the possession of modern gadgets like color T.V. mobiles and motor cars. The need of the hour is that people give up the craze for fashions. They may look smart but they should primarily be healthy, intelligent and well-poised.




An Indian Festival

India is a land of fairs and festivals. Diwali is a widely celebrated festival in the calendar of Indian festivals. It is the festival of the Hindus. It is called the festival of ‘diyas’ or ‘Deepmala’. It is celebrated in the moth of October or November every year. It marks the return of Lord Rama to his kingdom after an exile of fourteen years. They victory of Rama is a victory of the forces of good over the forces of evil. People light up their houses on the night of Diwali. Earthen lamps known as ‘Diyas’ burn throughout the night. Candles are lighted and arrayed on the front walls and projected places. People keep electric lights on throughout the night. Cities, towns and villages look like shining comets. The city of Amritsar in Punjab is beautifully decorated. People from different parts of the world come to see the Diwali of Amritsar. Sweets are distributed among friends and relatives on this day. Men and women put on colourful clothes on the day of Diwali. They greet one another and wish each other the blessings of Diwali. Children let off crackers, the noise of which continues til late onto the night. People keep their houses neat and clean. Some orthodox people believe that Lakhshmi, the goddess of wealth, visits a clean and well-lit house on the night of Diwali. Many people gamble on the night of Diwali. Money changes hands and  it brings ruin to certain families. The festival of Diwali leaves a long sweet echo behind.




Craze For Films

We are living in a fast changing world. With the advent of cinema and T.V means of entertainment have increased manifold. In the past, people collected at some place and talked. In villages, children collected on the green and played games in a circle. Life today has become very fast and mechanical. It is dull and boring at times. Now, people crave for some change to make their life rally spicy and enjoyable.of all the means of recreation, films come to our rescue in a big way. They are a big source of entertainment. Men, women and children, young and told, all go to see a movie at a theatre. We love films for their songs, dances and dialogues. Some people go there to see their favourite heroes and heroines in action on the screen. Others go there to forget all about their worries. Young boys and girls are crazy about films. They go to see the first show on the very first day. Students cut their classes to see the films of their choice. With the introduction of television and DVD player, young people remain glued to their T.V. sets for hours. Even grown-ups seem to be crazy about films. housewives neglect their household work to see films or enjoy film songs. Even the old do not shy away from T.V sets. Such is the craze of people for movies. At any rate, films offer us a good change from the duel routine of life. A tired man feels refreshed after seeing a good movie. Movies, no doubt, rule the roost today but crazy for films is something to be discouraged.




The Pleasure Of Reading Books

‘My never failing friends are they
with whom I converse day by day.’

Books are out never-failing friends. They are our constant and faithful friends. They stand by us in our weal and woe. Our friends may leave us in the lurch but books always stand by us. Our wealth may take wings but our books always remain out life-long companions. Once we read them, they become a part of our life. In fact, they are the milestones on the path of life. They remind us of important events in our life. They are the glory of every house. Books are written on a variety of subjects. They are the products of great brains. They contain the treasures of wisdom. They enrich our mind with knowledge and satisfy our thirst for intellectual and spiritual knowledge. They give us courage in moments of loneliness and despair. They widen our outlook and give us a new direction in life. They world of books is, in fact, very large. Much depends upon the selection of books. Good books take us on to the right path of life. On the other hand, cheap books lead us astray. So, we should be quite wary while choosing books. It is only good books which open before us the windows of knowledge and lay before us the pearls of wisdom. They give us the secret of living on this earth. They console us, guide us and rebuke us when we are in the wrong. So, the pleasures of reading books are many.




Life In A College Hostel

A hostel is a place which provides boarding and lodging to the students. Life in a college hostel has many advantages. In a hostel students can read without any disturbance. They can develop a spirit of competition. Life in a college hostel is marked by regularity. Student observe a fixed time-table. They learn discipline and develop the spirit of brotherhood. When their fellow students fall ill, they nurse them . Thus life in a college hostel develops a spirit of co-operation. It broadens the outlook of the students. It provides them better opportunities to develop the spirit of service and sacrifice. Friendship formed in a college hostel continues throughout life. Hostel life provides facilities for physical exercise. Students develop organising capacity here. They arrange different functions. On the whole, life in a college hostel develops the personality here of the students. It builds their character. But life in a college hostel has its dark side too. It is costly. Some students become homesick and do not take interest in their studies. Some students fall into bad company and ruin their career. But life in a college hostel is new experience in one’s life. It is a blessing, a joy, a lesson and a great responsibility. Everybody should be made to stay in a hostel for limited period. Hostel life is a real lesson in corporate living.


Friday, October 21, 2016



समाचार-पत्र : ज्ञान का सशक्त साधन 

समाचार-पत्र की आवश्यकता – मनुष्य स्वभाव से जिज्ञासु है | वह जिस समाज में रहता है, उसकी पूरी जानकारी चाहता है | इस बहाने वह शेष दुनिया से जुड़ता है | इसी प्रवृति के कारण ही समाचार-पत्र का उदय हुआ |
इतिहास – भारत में पहला समाचार-पत्र ‘इंडिया गजट’ नाम से प्रकाशित हुआ | हिंदी का सवर्प्रथम समाचार-पत्र ‘उदंत मार्तड’ कोलकाता से प्रकाशित हुआ | आज हिंदी-अंग्रेजी के सैकड़ों समाचार-पत्र निकल रहे हैं | इनमें से प्रमुख हैं – हिंदुस्तान, हिंदुस्तान टाइम्स, ट्रिब्यून, स्टेट्समैन, टाइम्स ऑफ इंडिया, दैनिक जागरण, जनसता, पंजाब केसरी, अमृत बाज़ार पत्रिका, पायोनियर, इंडियन एक्सप्रेस आदि |
विश्व-भर से जोड़ने का साधन – समाचार-पत्र मनुष्य को विश्व-भर से जोड़ता है | प्रात: होते ही सारे संसार महत्वपूर्ण जानकारियाँ समाचार-पत्र द्वारा उपलब्ध हो जाती हैं | इसलिए जेम्स एलिस ने कहा था – “समाचार-पत्र संसार के दर्पण हैं |”
लोकतंत्र का प्रहरी - समाचार-पत्र लोकतंत्र का सजग प्रहरी है | लोकतंत्र की सफलता के लिए आवश्यक है कि जनता सब कुछ जाते और अपनी इच्छा-अनिच्छा को प्रकट करे | नपोलियन खा करता था – “ मैं लाखों संगीनों की अपेक्षा तीन विरोधी समाचार-पत्रों से अधिक डरता हूँ |”
जनमत बनाने का साधन – ‘समाचार-पत्र साधारण जनता के शिक्षक हैं |’ समाचार-पत्रों के संपादक, संवाददाता या अन्य अधिकारी जिस समाचार को जिस ढंग से देना चाहें, दे सकते हैं | आम जनता समाचार-पत्रों से सीधे प्रभावित होती है | विभिन्न समाज-सुधारक, चिंतक, विचारक, आंदोलन-कर्ता, क्रांतिकारी अपने विचारों को छापकर जनता को प्रभावित कर सकते हैं |
ज्ञान-वृद्धि का साधन – आजकल समाचार-पत्र पाठकों की ज्ञान-वृद्धि भी करते हैं | विशेष रूप रविवारीय पुष्ठों में छपी जानकारियाँ, नित्य नए अविष्कार, नए साधन, नए पाठ्यक्रमों की जानकारी, अदभुत संसार की अदभुत जानकारियाँ पाठकों का ज्ञान बढ़ाती हैं | रोगों की जानकारी, उनके इलाज के उपाय भी समाचार-पत्र में छापे जाते हैं |
मनोरंजन का साधन – आजकल समाचार-पत्र पाठकों के लिए मनोरंजन की रंग-बिरंगी सामग्री लेकर उपस्थित होते हैं | खेल-संसार, फिल्मी संसार, चुटकले, कहानियाँ, पहेलियाँ, रंग-भरो प्रतियोगिता के माध्यम से बच्चे, किशोर और तरुण, भी समाचार-पत्रों पर जान छिड़कते हैं |
व्यापर के लाभ – समाचार-पत्रों से सर्वाधिक लाभ व्यापारियों, उद्योगितियों और फैक्ट्रियों को होता है | प्रचार और विज्ञापन के द्वारा इनका माल रातोंरात देशव्यापी बन जाता है | इसके माध्यम से आप अपनी संपति खरीद-बेच सकते हैं, सोना-चाँदी और शेयरों के दैनिक भाव जान सकते हैं | सचमुच समाचार-पत्र सांसारिक सिद्धियों का भंडार है | यस एसा शब्द-संसार है जिसमें पूरा संसार बसा है |



पर्यटन का महत्व

पर्यटन का आनंद – 

सैर कर दुनिया की गाफ़िल, ज़िंदगानी फिर कहाँ ?
जिंदगानी गर रही तो नौजवानी फिर कहाँ ?

जीवन का असली आनंद घुमक्कड़ी में है ; मस्ती और मौज में है | प्रकृति के सौंदर्य का रसपान अपनी आँखों से उसके सामने उसकी गोद में बैठकर ही किया जा सकता है | उसके लिए आवश्यक है – पर्यटन |

पर्यटन के लाभ – पर्यटन का अर्थ है – घूमना | बस घुमने के लिए घूमना | आनंद-प्राप्ति और जिज्ञासा-पूर्ति के लिए घूमना | ऐसे पर्यटन में सुख ही सुख है | ऐसा पर्यटन दैनंदिन जीवन की भारी-भरकम चिंताओं से दूर होता है | जो व्यक्ति इस दशा में जितनी देर रहता है, उतनी देर तक वह आनंदमय जीवा जीता है |

पर्यटन का दूसरा लाभ है – देश विदेश की जानकारी | इससे हमारा ज्ञान समृद्ध होता है | पुस्तकीय ज्ञान उतना प्रभावी नहीं होता जितना कि प्रत्यक्ष ज्ञान | पर्यटन से हमें देश-विदेश के खान-पान, रहान-सहन तथा सभ्यता-संस्कृति की जानकारी मिलती है | इससे हमारे मन में बैठ हुए कुछ अंधविश्वाश टूटते हैं | हमें यह विश्वास होता है – विश्व – भर का मानव मूल रूप से एक है | हमारी आपसी दूरियाँ कम होती हैं | मन उदार बनता है | पूरा देश और विश्व अपना-सा प्रतीत होता है | राष्ट्रिय एकता बढ़ाने में पर्यटन का बहुत बड़ा योगदान है | 
पर्यटन : एक उद्दोग – वर्तमान समय में पर्यटन एक उद्दोग का रूप धारण कर चूका है  | हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर आदि पर्वतीय स्थलों की अर्थ-व्यवस्था पर्यटन पर आधारित है | वहाँ वर्षभर विश्व-भर से पर्यटक आते हैं और अपनी कमाई खर्च करते हैं | इससे ये पर्यटक-स्थल फलते-फूलते हैं | वहाँ के लोगों को आजीविका का साधन मिलता है |

पर्यटन के प्रकार – पर्यटन-स्थल अनेक प्रकार के हैं | कुछ प्रकृतिक सौंदर्य के लिए विख्यात हैं | जैसे-प्रसिद्ध पर्वत-चोटियाँ, समुद्र-तल, वन-उपवन | कुछ पर्यटन-स्थल धर्मित महत्व के हैं | जैसे हरिद्वार, वैष्णो देवी, काबा, कर्बला आदि | कुछ पर्यटन-स्थल एतेहासिक महत्व के हैं | जैसे लाल किला, ताजमहल आदि | कुछ पर्यटन-स्थल वज्ञानिक, सांस्कृतिक या अन्य महत्व रखते हैं | इनमें से प्राकृतिक सौंदर्य तथा धार्मिक महत्व के पर्यटन-स्थलों पर सर्वाधिक भीड़ रहती है |




मोबाइल फोन संपति और विपति की तरह ही सुखद और दुखद है 

मोबाइल फोन – एक सुविधा या संपति – मोबाइल फोन मनुष्य के हाथों में खेलने वाला चोबिसों घंटों का नौकर है |उसकी हैसियत इनती भर है कि वह मनुष्य की जेब में जाता है |  वहीँ से बैठा-बैठा वह बताता रहता है कि कोई आपका अपना आपसे बात करना चाहता है | अब आपकी इछ्चा है कि आप बात करें या न करें, या प्रतीक्षा के लिए कहें | वास्तव में मोबाइल के माध्यम से सारी दुनिया आपकी जेब में रहती है |

आज मोबाइल फोन बहुत सस्ता हो गया है | केवल कुछ रुपयों में देश-विदेश में बातें हो सकती हैं | संदेश भेजता तो लगभग मुफ्त है | कोई व्यक्ति एक-साथ सैंकड़ों लोगों को कुछ ही मिनटों में संदेश भेज सकता है, वह भी बहुत कम मूल्य पर | यह संदेश-माध्यम डाक-घर के पोस्टकार्ड से भी सस्ता और विश्वसनीय बन गया है | यहाँ तक कि ‘मिस्ड काल’ के माध्यम से बिना पैसा खर्च किए भी अनेक संदेश लिए-दिए जा सकते हैं |

संपर्क का सस्ता और सुलभ साधन – मोबाइल फोन संचार का माध्यम तो है ही, साथ ही वह घड़ी, टोर्च, संगणक, कैमरा, संस्मारक, रेडियो, खेल, मनोरंजन आदि की भी भूमिका निभाता है | वास्तव में वह अलादीन का चिराग है | मोबाइल फोन में शक्तिशाली कैमरा फिट हैं जिनके माध्यम से आप संवाद-सहित पुरे दृश्य कैमरे में कैद कर सकते हैं | अँधेरे में वह टोर्च का काम करता है तो सोते हुए अलार्म घड़ी का | वह आपको महतवपूर्ण पल याद कराने वाला स्मारक मित्र भी है और कलेंडर भी | गणता से लेकर टाइम-कीपिंग तक का काम मोबाइल फोने द्वारा ललिया जा सकता है |

विप्तियाँ – अनचाहा खल डालने का साधन – मोबाइल फोन के अभिशाप भी कम नहीं हैं | यह मनुष्य को चोबिसों घंटे व्यस्त रखता है | इसके कारण हमें अनचाहे लोगों से अनचाहे समय में बातें करनी पड़ती हैं | आप पूजा में बैठे हैं या गहन अध्ययन में मग्न हैं कि इसकी घंटी हमारा ध्यान भंग कर देती हैं | हम खीझ उठते हैं, किंतु कर कुछ नहीं सकते | यदि अपने मित्र-बंधू असमय में फोन करें तो भी बुरा नहीं लगता | बुरा तब लगता है जबकि दिनभर विज्ञापन-कंपनियों ने विज्ञापन या निवेश-कंपनियों के आफर आपको परेशान करते रहते हैं | गलत नंबर मिलना, अनावश्यक संदेशों का आना और उसे मिटाना भी अलग से एक काम है जिसके कारण जीवन का कुछ समय व्यर्थ में बर्बाद हो जाता है |

अपराधियों के लिए वरदान – मोबाइल फोन की विप्तियों का दर्द युवतियाँ और लडकियाँ अधिक झेलती हैं | उन्हें अनजान शरारती तत्वों की बेतुकी बातें से पिंड छुड़ाना बहुत भारी पड़ता है | आजकल मोबाइल फोन के कारण अपराधियों के गिरोह अपने कम को आसानी से अंजाम तक पहुँचाते हैं | अनेक बदमाश जेलों में बंद होते हुए भी मोबाइल के माध्यम से आतंक फैलाते हैं |

मोबाइल फोन इलेक्ट्रॉनिक किरणों से चलते हैं | इसलिए इसकी घातक किरणे ह्रदय तथा मस्तिष्क पर बहुत बुरा प्रभाव डालती हैं | जो लोग मोबाइल का बहुत अधिक उपयोग करते हैं उनके मस्तिष्क की नसें उत्तेजित होकर अनके बीमारियों को जन्म देती हैं |

निष्कर्ष – मोबाइल फोन वरदान है | इसके अभिशापों को समझदारी से समाप्त किया जा सकता है | यदि मनुष्य इसके उपयोग को अपने अनुसार नियंत्रित कर ले तो इसके कारण होने वाली मुसीबतों से बहुत सीमा तक बचा जा सकता है |




कंप्यूटर और टी.वी. का प्रभाव

कंप्यूटर और टी.वी. का बढ़ता प्रचलन – कंप्यूटर और टी.वी. आधुनिक युग के सबसे बढ़े वरदान हैं | इन दोनों ने इतनी रोचक और उपयोगी दुनिया बसा ली है कि आदमी इन्हीं की दुनिया में खोया रहना चाहता है | उन्नति की धरा के साथ चलने वाला हर मनुष्य दैनिक इन दोनों की सेवाएँ अवश्य लेता है |

सकारात्मक प्रभाव – कंप्यूटर ने सांसारिक यात्रा को बहुत सरल और सुगम बना दिया है | कंप्यूटर से बैंक, तेल-सेवा, बिल-अदायगी जैसी सेवाएँ सरल, त्वरित और निर्देष हो गई हैं | अब बैंकों के ए.टी.एम. बिना भेदभाव के चोबिसों घंटे पैसे उपलब्ध करवाते हैं | कंप्यूटर और इंटरनेट के शेयर हम घर बैठे-बैठे अपने सभी बिल जमा करवा सकते हैं तथा यात्रा-टिकट ले सकते हैं | यहाँ तक कि खरीददारी भी ऑन लाइन हो गई है | इंटरनेट ने ज्ञान के विपुल भंडार मुफ्त उपलब्ध करा दिया हैं | कोई जिज्ञासु चाहे तो इंटरनेट के माध्यम से विश्व-भर की छोटी-से-छोटी जानकारी भी प्राप्त कर सकता है |दूरदर्शन भी ज्ञान का स्त्रोत है किंतु लोग इसे मनोरंजन के साधन के उप में स्वीकार करते हैं | उन्हें सुनकर मनुष्य की चेतना विकसित होती है |

नकारात्मक प्रभाव – कंप्यूटर और टी.वी. के नकारात्मक प्रभाव भी सामने हैं | ये दोनों साधन दर्शक को एक जगह पर बाँध कर बिठा देते हैं और उसकी चेतक को पूरी तरह केंद्रित कर लेते हैं | परिणामस्वरुप लोग दैनिक कई घंटे इनमें खर्च कर देते हैं | सच मायनों में दिन में 24 नहीं 20-21 घंटे रह गए हैं |एक कारण बच्चों के खेल खत्म हो गए हैं, रिश्ते-नाते कम हो गए हैं, समाजिक संबंद ढीले पड़ गए हैं | दूरदर्शन और कंप्यूटर से संलिप्त व्यक्ति अकेल्ली दुनिया की सुरंग में खोया हुआ अजनबी हो गया है जिसे सारी दुनिया को मुट्ठी में करके की ललक तो है किंतु किसी से बात करने की फुर्सत नहीं है | इस कारण लोगों की आँखों पर चश्मे चढ़ गए हैं, पेट में चर्बी चढ़ गई है | मोटापा, ह्रदयाघात, सुगर, तनाव जैसे बीमारियाँ बढ़ने लगी हैं | अशोक सुमित्र से नहीं कहा है –

कंप्यूटर और टी.वी. ने ऐसे छेड़ी तान |
पंछी पिंजरों में घुसे, भूल गए हैं उड़ान ||

इन दोनों साधनों का सबसे नकारात्मक प्रभाव है – अश्लीलता और अपसंस्कृति का प्रसार | बच्चे तड़क-भड़क वाले उतेजत कार्यक्रमों तथा नग्न दृश्यों में रूचि लेने लगे हैं | इस कारण समाज में छेड़छाड़, बलात्कार, चोरी, लुट आदि की आपराधिक घटनाएँ बढ़ने लगी हैं |

नकारात्मक प्रभाव से बचने के उपाय – नकारात्मक प्रभावों से बचने का सर्वोतम उपाय है-आत्म-संयम | आज अच्छे और बुरे-सब प्रकार के कार्यक्रम दूरदर्शन और इंटरनेट पर उपलब्ध हैं | ये आगे भी उपलब्ध रहेंगे | इनमें से अच्छे कार्यक्रम में रस लेना, उसका सीमित उपयोग करना उपभोक्ता पर निर्भर है और रहेगा | अश्लील कार्यक्रमों पर रोक लगाने में सरकार की, मीडिया की, जनमत की, सामजिक संघठनों की भी भूमिका हो सकती है | सरकार को चाहिए कि वह सेंसर का प्रभावी प्रयोग करके नकारात्मक प्रभावों को रोकने के लिए कदम उठाए |




टी.वी. वरदान या अभिशाप

विवाद का विषय – दूरदर्शन विद्यार्थी के लिए लाभदायक है या हानिकारक ; यह प्रशन विवाद का विषय है | दूरदर्शन के लाभ तथा हानियों को हम इस प्रकार समझ सकते हैं |

ज्ञान-वृद्धि – दूरदर्शन समूची मनुष्य-जाति के लिए वरदान है | दूरदर्शन में दिखाए जाने वाले कार्यक्रमों में देश-विदेश की, जल-थल-नभ की, पहाड़ों और नदियों की, समुंद्र और रेगिस्तान की, नगर और ग्राम की, इतिहास और वर्तमान की कितनी ही झाँकियाँ दिखलाई जाति हैं | ये सब झाँकियाँ विद्यार्थी का ज्ञानवर्द्धन करती हैं | दूरदर्शन में जीती-जागती वास्तु हमारे सामने साकार रख दी जाती हैं | इसलिए उसका प्रभाव अधिक होता है |

पाठ्यक्रम-संबंदी कार्यक्रम – आजकल दूरदर्शन के माध्यम से छात्रों के पाठ्यक्रम संबंदी कार्यक्रम भी प्रसारित किए जाते हैं | दूरदर्शन के सहारे पाठ्यक्रम दूर-दराज के गाँवों तक भी पहुँच सकता है | इससे दूरस्थ शिक्षा के नए द्वार खुल गए हैं |

हानियाँ – व्यवहार में एक बात देखने में आती है कि दूरदर्शन छात्रों के लिए सहायक न बनकर बाधा के रूप में सामने आता है | अधिकतर छात्र दूरदर्शन के रोचक, सरस कार्यक्रमों में रूचि लेते हैं, जिनका संबंद पाठ्यक्रम या ज्ञान से ण होकर मनोरंजन से होता है | फिल्में, खेल, सीरियल आदि उनका मन मोहे रहते हैं | ऐसी स्थिति में वे पढ़ाई में रूचि नहीं ले पाते; या अधिक समय मनोरंजन में खर्च कर देते हैं | दुसरे, दूरदर्शन से चार्टों को छल, फरेब झूठ, बेईमानी के सरे तरीके पता चल जाते हैं | वे चालाकी, शरारत और उद्दंडता का पाठ सीखते हैं |

निष्कर्ष – दूरदर्शन के विरोध में दिए जाने वाले तर्क आधारहीन हैं | ये तर्क दूरदर्शन के विरोध में नहीं, उन कार्यक्रमों के विरोध में हैं जो छात्रों को आकर्षण के जाल में फँसाते हैं | इस बारे में यही कहा जा सकता है कि छात्रों को दूरदर्शन का सही उपयोग करना चाहिए | उन्हें पढ़ाई को ध्यान में राखते हुए स्वयं पर संयम रखना चाहिए | दूरदर्शन के गलत उपयोग को रोककर उसके लाभ लिए जा सकते हैं | किंतु उसे नकार देने से उसके सभी लाभ समाप्त हो जाएँगे |


Wednesday, October 19, 2016



Character

Character has been defined as “the distinctive mark of an individual.” What that mark is going to be depends partly upon nature, but largely on family environment and up-brining. Children are imitative creatures, but they are also endowed with reasons; and character is formed, first by inculcating ideas of right and wrong in the minds of the young and, secondly, by the exercise on the part of the children of the reasoning power on questions of right and wrong. All men more or less are the architects of their own character. 

Character depends upon imitations, tastes, talents and habits. Imitation, in the case of children, is instinctive and not connected with reason, but as he grows older he chooses what to initiate. Then is the time for education to step in and point out what is worthy of imitation and what is unworthy, and then he will learn to select the best models for limitation. Ideals of self-control, courage, benevolence, honesty, purity should constantly be held up for the admiration of the young. They should be encouraged to read the biographies of great men, that they may be inspired by their example.

Another important factor in the formation of character is habit. It is by habit that character is fixed, just as it is by conduct that it is indicated. The practice of shirking work quickly grows and if allowed to obtain a firm hold, with be found most difficult to eradicate. On the contrary good habits, though more difficult to form than bad habits, are within the power of who are not radically weak, and, once formed, will rebuilt in the production of a healthy man, a worthy citizen, dutiful son and a wise father.




Problems of Rising Prices

The problem of rising prices is the greatest economics problem in a country today. It is cutting the throats of millions today because millions of people find it hard to manage one square meal a day. All days work does not promise then sufficient to eat and drink.

Prices have doubled in the last five years and many things on daily use are now beyond the reach of common man. More and more things are going beyond the reach of common people with each passing day.

The reason is not for to seek. There is a craze for getting rich as quickly as possible. The industrialists, the manufactures and the middlemen seek the highest profits and have no soft corner for the poor consumer and purchases. Big industrial concerns have become economic empire and dictate their own terms to the common people.

The government is also to be blamed to some extent. It is constantly increasing taxes there by pushing prices astronomically. It has been resulting to deficit financing and printing currency notes by the tons. It has increased prices and the common men are praying for his needs through the nose. The rich are becoming richer and the poor are becoming poorer. This gap seems to be increasing each year.




A Stitch in Time Saves Nine

A stitch in time saves nine and a malady which is curable today and within the control of the physician my become incurable tomorrow and get out of the control of the physician.

As they say evil should be mapped in the bad. At any rate, it should not be allowed to gain a firm foot hold. Once it gets a foothold, it becomes a very difficult to eliminate it. It is easier to prevent a boy from smoking if he started smoking only a few days back that if he has been smoking for the last year.

As a student should always keep in mind to postpone doing the work which he can do today to tomorrow. When work piles on work the he begins feeling nervous and diffident with the result that my times the fails in the examination. A stitch is time does save nine.

A stitch in time saves nine is a plea for immediate action and promptness and agility in life. Postponement of action is often injurious. We should clutch opportunities. Once we let them go unnoticed, it becomes difficult to call them back. John Ruskin did not let opportunities skip away, he always tried to stitch in time. He realized fully the importance of today and as Date Carriage tells us in his wonderful book: ‘How to stop worrying and start living’, he had on his desk a simple piece of stone on which was carved one word - Today. 

A stitch in time as saves one from a lot of mental worry and brooding. One who does not work on time, keeps on worrying and brooding over the work tell it is not done.

Once should not allow things to deteriorate. A cold, if not treated at the right time, may develop to pneumonia. Timely stop or action is always safe and sound. Delays are dangerous.


Monday, October 17, 2016



Examination Hall,
ABC City.
August 17,20….

To 
The Deputy Commissioner,
A B C City.
Sir,
As a dutiful citizen, I consider it my first duty to bring to your notice a very big social evil. Obscenity in film posters has become the order of the day. People seem to have lost all sense of decency. Dirty and cheap film posters stare at the people from every wall and corner of this city. These dirty posters are displayed prominently near schools and colleges. These posters have a very harmful effect on young and tender minds. Ladies also feel badly embarrassed when they come across such vulgar posters where woman’s body is exposed shamelessly.

Kindly take personal interest in the matter and ban all display of such cheap and indecent posters.

Thanking you,
Yours faithfully,
XYZ.




90, Model Town,
Ludhiana.
August 25, 20….

To 
The Senior Superintendent to Police,
Ludhiana.
Subject  : Loss of bicycle.

 Sir,
Yesterday, I went to see my friend at his house in Civil Lines at about 11 a.m. I placed my bicycle outside his house. I forgot to lock it. I stayed there for about twenty minutes. When I came out of his house, to my great surprise, I found my bicycle missing. I lost ground under my feet. An inquiry was made at the spot, but no clue was found. All suspected Moti who is known bicycle thief. It surely appeared to be his handiwork or that of his gang men.

The make of the bicycle is ‘Eastern Star’. Its number is 5676. It is a brand new bicycle. Its color is green. The photocopy of the cash memo is enclosed.

I am sure that all these particular will enable you to trace out my lost bicycle.  I shall feel obliged to your if you investigate the matter at your earliest. I am facing a great hardship without the bicycle.

Yours faithfully,
XYZ.




Ram Manohar Lohia Hospital,
Civil Lines,
Karnal,
August 10, 20….

To 
The Superintendent of Police,
Karnal.
Sir,
I beg to bring to your kind notice that constable No. 67-M misbehaved with me yesterday near the Grain Market. I was returning from the hospital and had stopped at the Grain Market in order to make certain purchases.

It so happened that at the Gandhi Nagar crossing a cyclist was negotiating a turn to his right when the lights went off owning to breakdown of electricity. I was just following him. I slowed my vehicle and saw that the constable was beating the cyclist. I told him to stop beating him. Thereupon, he abused me and even charged at me. I went back toward my vehicle and thus saved myself.

Later in the day, I gathered that the constable was a drug addict. He is in the habit of misbehaving with the people. He also teases young girls and flings remarks at them. A shopkeeper in the Main Bazaar tells me that the constable extorts money from innocent farmers who come to buy seeds from the Grain Market. 

I hope you would take up the matter seriously. Kindly warn the constable to behave nicely towards the public in future. It will be appreciated if this constable is sent back to the police lines for a refresher course in traffic regulations and public dealing.
I remain,

Yours faithfully,
Rohit Sanayal.





To 
The Deputy Commissioner,
…………. City.

Sir,
We, the residents of Basti Nagar, wish to draw your kind attention to the increasing incidents of eve-teasing and lawlessness in the city. It has become a big menace for peace-loving citizens. Of late, the populations of this city has increased. Some bad elements have infiltrated into this quiet and calm city situated on the foothills of the Shivalik range of mountains. College boys who are not interested in studies join these bad elements and pollute the atmosphere in the city. They pass dirty remarks and even chase the poor and helpless girls. It has become very difficult to leave girls on city roads during dim hours. Some cases of molestation have already occurred.

Besides this, thefts in the city are on the increase. A few days ago, some bad characters broke into the house of a bank manager. It was a regular theft and the whole house was ransacked. In yet another incident, a lady teacher returning home in a rickshaw was waylaid and robbed of her whole month’s salary at pistol-point. Incidents of pick-pocketing have increased. Some important persons and the members of the Municipal Council shall wait upon you on the coming Monday at your residence to apprise you of the situation. 

We hope that you will take stringent action against the culprits and maintain law and order in the city. The sooner the evil is nipped in the bud, the better it will be.

August 20, 20….
Yours faithfully,
Residents of Civil Lines,
Ropar.


Sunday, October 16, 2016



जीवन में कंप्यूटर का महत्व

कंप्यूटर युग – इक्कीसवीं सदी कंप्यूटर की सदी है | कंप्यूटर विज्ञान का अत्यधिक विकसित एवं बुद्धिमान यंत्र है | इसके पास ऐसा मशीनी मस्तिक है जो लाखों-करोड़ों गणनाएँ पलक झपकते ही कर देता है | जिन गणनाओं को करने के लिए मुनीम, लेखपाल और बड़े-बड़े अधिकारी दिन-रात परिशम करके भी गलतियाँ किया करते थे, उन्हें यह यंत्र निर्दोष रूप से तुरंत हल कर देता है |

रेल-सेवाओं में आसामी – आप रेलवे बुकिंग-केंद्र पर जाएँ | पहले मीलों लंबी लाइनों में प्रतीक्षा करनी पड़ती थी | अब कंप्यूटर की कृपा से आप देश कीकिसी भी कोम्पुटरीकृत खिड़की से कहीं से कहीं की टिकट बुक करा सकते हैं | पूरा देश कंप्यूटर द्वारा जुड़ गया है |

मुद्रण में क्रांति – मुद्रण क्षेत्र में आएँ | एक बटन दबाते ही सारे अक्षरों को मोटा, पतला, टेढ़ा या मनचाहा बना सकते हैं | मुद्रण इतना कलात्मक, साफ-सुथरा और वैविध्य-भरा हो गया है कि पुरानी मशीनों अब बाबा आदम के जमाने की लगती हैं |

संचार-क्रांति में सहायक – संचार-क्षेत्र में कंप्यूटर ने क्रांति उपस्थित कर दी है | टेलीफोन, फैक्स, पोज़िग, मोबाइल के बाद इंटरनेट ने मनो सारा संसार अपने ड्राईंग रूम में कैद कर दिया है | इंटरनेट पर आप विश्व की कोई भी जानकारी घर बैठे-बैठे ले सकते हैं | विश्व के किसी कोने की पुस्तक या समाचार-पत्र पढ़ सकते हैं | कोई लिखित सामग्री हाथों-हाथ दूरस्थ संबंदी को भेज सकते हैं |

रक्षा-उपकरणों में उपयोगिता – रक्षा के उन्नत उपकरणों में, हवाई-यात्राओं में कंप्यूटर-प्रणाली अत्यंत उपयोगी सिद्ध हुई है | भारत ने परमाणु-विस्फोट अत्यंत उन्नत कंप्यूटर प्रणाली से किया | कंप्यूटर की सहायता से ही हज़ारों किलोमीटर दूर ठिक निशाने पर वार करने की बिधियाँ विकसित हुई हैं |

स्वास्थ्य-सेवा में सहयोग – स्वास्थ्य के क्षेत्र में कंप्यूटर ने अदभुत सेवाएँ प्रदान की हैं | बीमारी की जाँच करने, संपूर्ण स्वास्थ्य परीक्षण करने, ह्रदय-गति मापने आदि में उसकी महत्वपूर्ण भूमिका है | आज ज्योतिषी भी कंप्यूटरीकृत जन्म-पत्रियाँ बनाने लगे हैं | इस प्रकार दैनिक जीवन में कंप्यूटर का उपयोग बढ़ गया है |




दैनिक जीवन में विज्ञान

जन-जीवन में क्रांति – विज्ञान के विकास से जन-जीवन में क्रांति आ गई है | विज्ञान ने बड़े-बड़े उद्योगों को जन्म दिया है | यातायात, संचार और श्रम के क्षेत्र में अभूतपूर्व सुविधाएँ प्रदान की हैं | वैज्ञानिक साधनों के कारण आज पूरा विश्व कुटुंब की भांति बन गया है | विश्व की कोई भी घटना मिनटों-सैकड़ों में विश्वभर में फैल जाती है | दूरदर्शन, रेडियो, दूरभाष, इंटरनेट और उपग्रह-संचार से सारा विश्व मानो जुड़ गया है |

वैज्ञानिक उत्पादन में वृद्धि – आज से कुछ वर्ष पहले बिजली का अविष्कार नहीं हुआ था | तब न स्वचालित मशीनें थी, न रातें प्रकाशमान थीं | नगर और ग्राम संध्या होते ही अँधेरे से घिर जाते थे | आज हमारी रातें रोशन हैं | दिन में ही नहीं, रात में भी रोशनियाँ जगमगाती हैं | कारखाने दिन-रात उत्पाद उगलते हैं | मनुष्य की क्षमता कितनी बढ़ गई है !

स्वास्थ्य और चिकित्सा से सुधर – विज्ञान के कारण हमने अनेक बीमारियों पर विजय पा ली है | मृत्यु-दर को काफी मात्रा में नियंत्रण पा लिया है | जीवन का स्तर सुधार लिया है | बाढ़, सूखा, महामारी जैसी प्राक्रतिक विपदाओं पर भी काफी मात्रा में नियंत्रण पा लिया है  | पोलियो, मलेरिया, चेचक जैसी अनेक बीमारियों के विरूद्ध अभियान छेड़कर जनजीवन को सुरक्षित बनाने के प्रयास जारी हैं |

तार्किक चिंतन का विकास – विज्ञान व्यक्ति के चिंतन पर भी प्रभाव डालता है | वह तथ्यों को महत्व देता है | इसका लाभ यह है कि मनुष्य अपनी रुढियों के जंजाल से मुक्त होता है | उसकी कपोल-कल्पनाएँ नष्ट होती हैं | जिन भ्रामक धारणाओं के कारण उसका जीवन नष्ट होता था, उसने उसे मुक्ति मिलती है |

विज्ञान सत्य की खोज का सबसे सशक्त साधन है | एक उदाहरण पर्याप्त है | क्रिकेट के मैच में लैग-अंपायर संदिग्ध कैच और रन-आउट के सूक्ष्म अंतर को पकड़ने में गलतियाँ कर जाता था | अतः उसकी छोटी- सी गलती किसी भी टीम या खिलाड़ी का मनोबल तोड़ देती थी | परंतु आज मशीन की सहायता से यह गलती टल जाती है | इस प्रकार विज्ञान अनेक रोगों की सही पहचान कराके हमें अनेक बीमारयों से बचा लेता है | सचमुच विज्ञान वरदान है |




विज्ञान : वरदान या अभिशाप

विज्ञान एक वरदान – अर्केडियन फरार लिखते हैं- “विज्ञान ने अंधों को आँखों दी हैं और बहरों को सुनने की शक्ति | उसने जीवन को दीर्घ बना दिया है, भय को कम कर दिया है | उसने पागलपन को वश में कर लिया है और रोग को रौंद डाला है |” यह उक्ति सत्य है | विज्ञान की सहायता से असाध्य रोगों के इलाज ढूंढ लिए गए हैं | कई बिमारियों को समूल नष्ट कर दिया गया है |

रसोई-घर से लेकर मुर्दाघर तक सब जगह विज्ञान ने वरदान ही वरदान बाँटे हैं | विज्ञान की सयाहता से पूरी दुनिया एक परिवार बन गई है | जब चाहे, तब मनुष्य अपने प्रियजनों से बात कर सकता है | घंटे भर में दुनिया का चक्कर लगा सकता है | सैकेंडों में दुनिया-भर को कोई संदेश दिया जा सकता है |

विज्ञान ने दूरदर्शन, रेडियो, विडियो, ऑडियो, चलचित्र आदि के द्वारा मनुष्य के नीरस जीवन को सरस बना दिया है | चोबिसों घंटे चलने वाले कार्यक्रम, नए-नए सुंदर सुस्वादु  व्यंजन, सुखदायक रंगीन वस्त्र, सौंदर्य-वर्द्धक साधन विज्ञान की ही देन हैं |

विज्ञान : एक अभिशाप – विज्ञान का सबसे बड़ा कहता है – पर्यावरण प्रदूषण | इसके कारण आज शहरों में साँस लेना दूभर हो गया है | हर जगह शोर, गंदगी और बिमारियों का साम्राज्य-सा फैल गया है | कृत्रिम खादों, दवाइयां के कारण भूमि से उत्पन्न अन्न-फल तक दूषित हो गए हैं |

विज्ञान की सहायता से मनुष्य ने खतरनाक बम बना लिए हैं | इससे अनेक बार विषैली गैसों तथा रेडियोधर्मी किरने विकीर्ण हो चुकी हैं | भोपाल गैस कांड और ओजोन गैस की परत का फटना इसके ज्वलंत उदाहरन हैं | यातायात की तेज गति के कारण भी मौतें होने लगी हैं | लोगों के शरीर पंगु होने लगे हैं | ये सब जीवन पर अभिशाप हैं |

अमानवीयता – आज का वैज्ञानिक मानव स्वार्थी, छली, चालाक, कृत्रिम और विलासी हो गिया है | दया, मानवता, श्रद्धा, आदर, कोमलता जैसे मानवीय गुणों से उसका नाता टूट गया है | ये बातें मनुष्य के लिए अशुभ हैं | विज्ञान ने मनुष्य को बेरोज़गार बना दिया है | सैंकड़ो आदमियों का कम करने वाली मशीनों ने कारीगरों के हाथ बेकार कर दिए हैं |

निष्कर्ष – सच बात यह है कि विज्ञान के सदुपयोग या दुरुपयोग को ही वरदान या अभिशाप कहते हैं | विज्ञान का संतुलित उपयोग जीवनदायी है | उसका अंधाधुंद दुरुपयोग विनाशकारी है |




स्वास्थ्य और व्ययाम

स्वस्थ तन-मन के बिना जीवन बोझ – जीवन एक आनंद है | इस आनंद का अनुभव वाही कर सकता है, जिसका तन और मन दोनों स्वस्थ हो तो मन स्वयं स्वस्थ रहता है | अगर तन-मन स्वस्थ न हों तो जीवन में कोई रन नहीं रहता | ऐसा जीवन व्यर्थ का बोझ बन जाता है |

अच्छे स्वास्थ्य के लिए अपेक्षित कार्यक्रम – अच्छे स्वास्थ्य के लिए तन और मन दोनों का व्ययाम अपेक्षित है | तन के व्यायाम के लिए चाहिए खेल-कूद, योगासन आदि | मन के व्यायाम के लिए अपेक्षित है अच्छे सहिस्य का पठन-पाठन और सत्संगति | अच्छे विचारों और भावों के संपर्क में रहने से मन का व्यायाम होता है |

शरीरिक स्वास्थ्य और व्यायाम – शरीरक स्वास्थ्य का अर्थ है – शरीर को निरोग और सुद्रढ़ बनाना | जब शरीर में कोई बीमारी नहीं होती तो वह ठीक अपने स्वाभाविक स्वरूप में होता है | इसके लिए नित्य व्यायाम करना आवयशक है | व्यायाम करने के अनेक ढंग हो सकते हैं | कबड्डी, खो-खो, हॉकी, फुटबाल, क्रिकेट, बैडमिंटन, टेबल टेनिस आदि मान्यता-प्राप्त खेल हैं | कुश्ती, जुडो-कराटे, मलखंभ, तैराकी अन्य प्रकार के खेल हैं | कुछ खेल गली-मोहल्लों में खेले जाते हैं, जैसा लुका-छिपी, पिट्ठू बनाना आदि | ये सब खेल शरीर को क्रियाशील रखने के ही प्रकार हैं | प्राय: लडकियाँ रस्सी कूदना जैसा व्यायाम में रूचि लेती हैं |

उपर्युक्त शरीरिक क्रियाओं से शरीर के सभी मल दूर हो जाते हैं | पसीना निकलता है | खून का दौरा तीव्र होता है | त्वचा के सभी बंद रंध्र खुल जाते हैं | शरीर हल्का प्रतीत होने लगता है |उसमें रोगों से लड़ने को शक्ति बढ़ जाति है |

मानसिक स्वास्थ्य और व्यायाम – मन को स्वस्थ रखने का आशय है – अपने प्रेम, उत्साह, करुणा आदि भावों को स्वाभाविक बनाए रखना | उन्हें घ्रणा, द्वेष या निंदा में न फँसने देना | इसके लिए सत्साहित्य पढ़ना चाहिए | महापुरुषों की जीवनियाँ पढ़नी चाहिए | शरीरिक रूप से स्वस्थ रहने पर मन भी अपने स्वाभाविक रूप में बना रहता है | अतः शरीरिक व्यायाम मन को शक्ति प्रदान करते हैं |

स्वास्थ व्यक्ति से स्वस्थ समाज का निर्माण – जिस समाज के व्यक्ति स्वस्थ होते हैं, वह समाज भी स्वस्थ बनता है | एसा समाज बुराइयों से लड़ पाता है, अन्याय का विरोध कर पाता है | ऐसा समाज ही प्रेम और करुणा का परिचय दे पाता है | यही कारण है कि अस्वस्थ शरीर वाले नगरीय समाज में चोरी और गुंडागर्दी की घटनाएँ अधिक होती हैं | गाँव के स्वस्थ लोग गाँव में घुसे शत्रुओं का एकजुट होकर मुकाबला करते हैं |




किसी खेल (मैच) का आँखों देखा वर्णन

भारत-इंग्लैंड एकदिवसीय क्रिकेट-श्रंखला का पाँचवाँ मैच – 2 सितंबर, 2007 को भारत-इंग्लैंड एकदिवसीय क्रिकेट-श्रंखला का पाँचवाँ मैच होना था | इससे पहले भारत टेस्ट क्रिकेट-श्रंखला जीत चूका था | बदले में इंग्लैंड ने 3-1 से एकदिवसीय श्रंखला में बढ़त ले ली थी | भारत पर ‘करो या मरो’ का संकल्प सवार था |

भारत की शुरुआत-बैटिंग पारी – टॉस इंग्लैंड ने जीता | भारत को बल्लेबाजी के लिए उतरा गया | विश्व की सबसे प्रसिद्ध सलामी जोड़ी-यानि सचिन और सौरव बल्लेबाजी के लिए उतरे | भारत के दो-दो यशस्वी भूतपूर्व कप्तान संग-संग जूझ रहे थे | सचिन ने एक-एक करके इंग्लैंड के सभी गेंदबाजों जो धुन डाला | उन्होंने प्रसिद्ध गेंदबाज लेविस के छठे ओवर में चार चौके जड़ दिए | उधर गांगुली भी फार्म में आ गए | उन्होंने मिड आन के ऊपर से चक्का मारा तो कप्तान कोलिनबुड खुद गेंदबाजी करने लगे | सलामी जोड़ी ने 116 रन बना डाले | यह उनकी विश्व-रिकार्ड बनाने वाली 19वीं शतकीय पारी थी | कोलिनबुड की गेंद पर सचिन लपके गए | उधर पनेसर की गेंद पर छक्का मारने के प्रयास में सौरव भी लपके गए | उसके बाद युवराज सिंह ने छक्के-चौकों की आतिशी बल्लेबाजी से 72 रन बनाकर सबको मंत्रमुग्ध कर लिया | भारत पर रन बनाने का भुत इतना सवार था कि कप्तान  राहुल रन आउट हो गए | एक खाली गेंद पर ही खिलाडियों ने भागकर दो रन बना लिया | अंतिम गेंद पर भी चौका जड़ा गया |

इंग्लैंड की पारी – इससे पहले कि इंग्लैंड की पारी शुरू होती, बारिश शुरू हो गई | बारिश रुकी तो इंग्लैंड को 45 ओवेरों में 311 रन बनाने का लक्ष्य दिया गया | इंग्लैंड के बल्लेबाज शुरू से ही आक्रामक खेल खेले | उन्होंने साढ़े छ: रन प्रति ओवर की गति बनाकर राखी कि ज़हीर खान के एक ओवर में सचिन ने हाथ में आई कैच छोड़ दी | भारत को झटका लगा | परंतु सात रन पर उनके सलामी बल्लेबाज कुक को विकेटकीपर धोने ने कैच-आउट कर दिया | उसके बाद आए बेल ने शानदार पारी खेली | दुर्भाग्य से सौरव गांगुली और अजित अगरकर ने हाथ में आए दो कैच और छोड़कर गेंदबाजों को और निराश कर दिया | यहाँ तक कि खीझ में आकर ज़हीर खान ने गेंद को पैर की ठोकर मारकर एक अतिरिक्त रन दे दिया |

अगले ही क्षण धोनी ने बेल को खूबसूरती से स्टंप आउट कर दिया | अगले ही ओवर में धोनी ने विकेट के पीछे एक और कैच लपका | तीन विकेट गिरते ही भारत का उत्साह बढ़ गया | वह दिन मानो धोनी के नाम था | उसने तीन और कैच लपके | इस प्रकार उसने एक ही मैच में 6 विकेट लेकर विश्व-रिकार्ड की बराबरी कर ली | इधर इंग्लैंड के कप्तान कोलिनबुड उन्मादी क्रिकेट खेलकर भारत के गेंदबाजों की धज्जियाँ उड़ा रहे थे | उन्होंने सभी दिशाओं में हवाई छक्के लगाए | 91 रनों की बेहतरीन पारी खेलते हुए वे बावड ही थे कि फिर से बारिश शुरू हो गई | अभी 39 ओवर हुए थे और इंग्लैंड ने 8 विकेट  पर 242 रन बना लिए थे | निश्चित रूप से यह मैच भारत की झोली में था | निर्णायकों ने डकवर्थ लुईस नियम के अनुसार भारत को बिजयी घोषित कर दिया | इस प्रकार आगामी दो मैचों का संघर्ष और भी रोचक हो गया | भारत ने श्रंखला जीतनी है तो उसे अपने दोनों मैच जीतने होंगे |

स्मरणीय बातें – इस मैच में सचिन-सौरव की सलामी बल्लेबाजी और छोड़ी हुई कैचें और एक युवराज और कोलिनबुड के रोमांचक छक्के याद रहेंगे | सबसे ज्यादा यद् रहेंगी धोनी की 5 शानदार कैचों और एक स्टंप | सौरव ने गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों में सुंदर प्रद्शन किया | इसलिए उन्हें मैन ऑफ़ द मैच घोषित क्या गया |


Friday, October 14, 2016



Population Problem 

The 2001 census that India’s population has crossed the one billion mark. It was 100 crore and 127 lack on March 1, 2001. Ours is the second most populous country in the world after China. Every year we add one Australia to our world after China. Every year we add one Australia to our population. Although India covers 2.4 percent of the total world area, it contains 16 percent of the world population. The situation is alarming. The population problem poses several dangers. On account of the fast rising population, people do not get enough to eat. There is no space for living. Children cannot be properly educated and when they complete their education, there are hardly any jobs for them. 

Men today outnumber women in our country. Kerala achieved the distinction of being the first fully literate state in India in April 1991. Unless steps are taken to provide more education opportunities for women, our family life will suffer. Women as mothers are the best teacher for their children.

The country should take a serious note of the population explosion. Our progress is possible only when we can look after all our countrymen, educate them, give those jobs and ensure the minimum standard of lively for every citizen in this vast country. We must control our population; this is in our national interest.



A Bad Workman Quarrels with His Tools

There is ample truth in the saying that bad workman quarrels with his tools. A bad students who fails in the annual examination will like to lay the blame of his failure at the door of those second hand books which his father bought for him and which do not contain, as he himself puts it, up-to-date information. He may also attribute a part of the blame to the environment of the house which interfered substantially with his concentration on the studies. But he will be the last person to hold himself responsible for the failure.

He has an ego and the demand of the ego is that he should not confess his own fault and limitation which, in themselves, are responsible for his failure or loss. Similarly, if a radio machine is incapable of finding out the defect in your radio setting it right, he will postpone the issue by saying that he has not with him then the proper has to handle or test same parts of the radio.

Men with a little beauty are haughty and vain, they are always trying to conceal their shortcomings from their friends or customers. On the other road, a really learned and wise man never quarrels with his tool, never puts the blame for his own failure on other factors with a view of hiding his faults and limitation. He is polite and not in the best show, if he cannot handle a job, he will lose no time in telling you that his is incapable of performing the job and that you should better hire the services of some more competent head.




Farewell Party at School

There is a tradition in every school that the junior students give a farewell to the senior most and outgoing students. Every student who begins school life must end it one day. I had studied in this school for six years. During my stay in the school I had learnt to respect and love every aspect of my school. The teachers meant so much as they gave me guidance at the most needed hour. The hour to leave school had come; it was indeed with a heavy heart that I thought of the breaking ties.

Our farewell party was to be organized by the XI class students under the supervision of then teacher. Each one of us was given an invitation card for the party by juniors. On their invitation we reached school at 2:30 p.m. juniors had organized a grand send off. They had beautifully decorated the auditorium. On the stage there were our honourable Principle, Vice-Principal and other member of the staff.

The cultural program started with the speeches by the students of XI class. They presented other programs like song, dancer, mimicry, skits. Some students from both the classes recited touching couples and poems befitting the occasion.

When the cultural program was over, one of our class students treated the Principal, teacher and juniors. Our teachers gave us some helpful sermons for the future life. Lastly the Principal advised us some points to follow for our forthcoming exams. Then the function came to an end.
Refreshments were served to all students. Each students of our class was gifted a pen by the juniors. We took leave from our teachers and friends with heavy hearts. Everyone tried to take cheerful though there was sadness in the air. 

School times are the best times; this was the time where I learnt that nothing lingers for long and that life demands a person to move on.



A Morning Walk 

Last Sunday I woke up early in the morning. The weather that day was very pleasant cool breeze was blowing and the sky, too was cloudy. I felt like going act for a walk.

I called my friend Sem, with the idea in mind to ask him to join me for a morning walk. He at once agreed to join me.

Very soon we found our self in the lap of nature and were breathing fresh and cool air. Everything around us looked fresh and green. Every row and then same little drop of rain would drop on over head. This would add to over joy and freshness. 

The birds were chirping on the tree tops. The dew drops on the beds of grass looked like little pearls. Little sparrows were flattering in the air. Butterflies were fitting from flower to flower. Nature seemed to be at her best at that time.

The scene now appeared on the eastern horizon. Its rays seemed to be struggling to thorough the clouds that had begun to look red. The scenery at that time was breather talking. In the mean time shepherds had some out with their flocks of cows and sheep. Their hearts were full of joy. Their lips were humming some sweet song of life.

Soon we reached near a lack and we dipped our feet in the fresh, cool water. It was time to return home.

With unwilling steps I returned home, with memories of my morning walk. Morning walks refresh over mind and body – it is a way to stay healthy.


Tuesday, October 11, 2016



Your College Canteen

The college truck shop is the most haunted place during the recess or the vacant periods. Every college has its canteen,big or small. Our College truck shop is situated in one corner of the college. It is housed in are-bricks building consisting of three small rooms and a big dining hall. The canteen contractor is a very fine person. He has two assistants to help him in canteen. He does not sale tell articles. The rate list of article is always displayed on the notice board there is a proper cleanliness in our truck shop. Student taken tea in the hall room while teachers go and sit in small rooms. The principal takes around of the canteen once or twice in a week. Students discuss teachers, books and fashions over a cup of tea. Sometimes, they create a scene in the canteen. The canteen contractor controls the situation in his own way. At the same time of some functions, the canteen is decorated like a newly married girl. Students love to visit the canteen  in their free periods. Our college truck shop sells fruits, sweets, ice cream, cold drinks besides tea and coffee. Welcome and farewell parties are arranged round the year the canteen. The college truck shop is good meeting place. There is a great hustle and bustle at the canteen. Students drown their class mates worries into a cup of tea for sometimes. They go back fresh to the classrooms. Thus the college truck shop occupies a place a pride in our college.




Our College Library

A library is the heart and soul of an institution. It is the storehouse of books and repository of knowledge. Our college is located in the heart of the city. It is housed in a palatial building with a large and very good library. The library has got two reading rooms adjoining a hall for boys and girls. The staff has a separate reading room. Student and teacher visit the library in their free period. The librarian of our collage is a well qualified and experienced fellow. He has two assistants to help him in the library. Our college library has more than twenty thousand books concerning almost all walks of life, like philosophy, fine arts, religion, science, general knowledge,etc. The books are properly catalogued and arranged subjects-wise. There is an open system in our college library. Books are issued to students in their turn. Each student can draw two books  from their library for a fortnight. Our college library contributes to as many as fifteen journals and magazines in Punjabi, Hindi and English. Besides this, newspaper in vernacular and in English are also available in the college library. It is a great fun to visit the library. The reading hall remains crowded with the reader. The new arrivals in shining title cover attracts the attention of the readers. A library thus provides mental food and up-to-date information to the readers. A visit to the library is thus very rewarding.




The Pleasure Of College Life

College life has joy, romance, beauty and attraction of its own. It is an enjoyable period. There is a would of difference between the school life and the college life. In a school, students are just like birds in a cage. They are afraid of their teachers and have no freedom of movement or liberty of speech. But in a college the students are relatively free. They have the liberty to think, feel and state their opinion. They meet professors on equal footing. The atmosphere of freedom has a healthy influence on the young minds. Students dress themselves in the best of clothes and wander about like peacocks. A college is a nursery of fashions, particularly in dress. College life provides an opportunity to the students to develop their personality. They take part in various academic and cultural activities. They develop the capacity to organise functions and participate in them. College life develops their head and heart. It is one of the most important periods when students can develop their hidden talents. Someone has rightly said that there is no knowledge without college. It is actually the seed-time in the life of a student. It paves the way for a prosperous and healthy life in the years to come. Those who make the best of their time at college find sauces waiting for them. An idler or time-killer repents in his future life. So the pleasure of college life can at best be translated into a better future.




A Football Match

Games and sports are an important part if life. Life would be dull without games. In fact, life itself is a game. I love to play games. Football is my favourite game. Last Sunday, my friend and I went to see a football match. It was played between out college team and the Government college team. It was played on our school ground. Both the teams were in uniforms. Both the teams were equally strong. The referee blew a long whistle. There was a toss. We won the toss. Both the teams took their sides. The match started. For some time, the game was slow. But soon it became very brisk. The ball was changing sides again and again. Our players moved as one man. They put up a good show. Then our captain got a chance. He kicked the ball so hard that it passed right through the goal posts. There were loud cheers from all sides. Our Players were mad with joy. Soon there was the interval. Both the teams were given light refreshment. Sides were changed after the interval. The referee blew the whistle and the match started again. The other team tried hard to equalise. But all their efforts were unsuccessful. The referee blew a long whistle. The match was over. Our team won the match by one goal. The students of our college were beside themselves with joy. The next day was declared a holiday. We came back home happily.




A One Day Cricket Match

Cricket has its own glories and wonders. It is really an interesting game. Nothing can be more exciting than a One-Day Cricket match between India and Pakistan. I was glued to the T.V. set right from the first half. I was disappointed and disgusted to find that the entire Indian team was bundled out for just 173 runs in 45.3 overs. The stadium was resounding with the shouts of ‘Pakistan zindabad.’ Pakistan’s green flag was in sight everywhere. India’s tricolour had simply vanished. Our fielders took the field. But the very first delivery by the opening bowler up-rooted Pakistani opener’s middle-stump. The Indian spectators work up. A few tri-colors popped up. But nothing happened for the next fifty runs until a young. Left arm spinner from South India, making a debut at Lahore, took over. This young boy brought about the collapse of Pakistan with two consecutive hat tricks. The stadium became  alive with slogans of ‘Hindustan Zindabaad’. The entire Pakistan team was out in just 35.2 overs for 172 runs. My father joined me in the patriotic dance of excitement in from of the T.V set. The young bowler who tore apart the Pakistani batting was declared ‘Man of the Match’. It was really an exciting and unforgettable match.


Sunday, October 09, 2016



जीवन में खेलों का महत्व 

खेलों का महत्व – खेल मनोरंजन और शक्ति के भंडार हैं | खेलों से खिलाड़ियों का शरीर स्वस्थ और मज़बूत बनता है | खेलों के द्वारा उनके शारीर में चुस्ती, स्फूर्ति, शक्ति आती है | पसीना निकलने से अन्दर के मल बाहर निकल जाते हैं | हड्डियाँ मज़बूत हो जाती हैं | शरीर हलका-फुलका बन जाता है | पाचन क्रिया तेज हो जाती है |

खेलों का दुस्ता लाभ यह है ये मन को रमाते हैं | खिलाड़ी खेल के मैदान में खेलते ही शेष दुनिया के तनावों को भुल जाते हैं | उनका ध्यान फुटबाल, गेंद या खेल में लीन रहता है | संसार के चक्करों को भूलने में उन्हें गहरा आनंद मिलता है |

खेल और चरित्र – खेलों की महिमा का वर्णन करते हुए स्वामी विवेकानंद खा करते थे – “मेरे नवयुवक मित्रो ! बलवान बनो | तुमको मेरी यही सलाह है | गीता के अभ्यास की अपेक्षा फुटबाल खलेने के दुवारा तुम स्वर्ग के अधिक निकट पहुँच जाओगे | तुम्हारी कलाई और भुजाएँ अधिक मज़बूत होने पर तुम गीता को अधिक अच्छी तरह समझ सकोगे |’’ स्पष्ट है कि खेलों से मनुष्य का चरित्र ऊँचा उठता है | स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन और स्वस्थ आत्मा निवास करती है | स्वस्थ व्यक्ति ही दुनिया से अन्याय, शोषण और अधर्म को हटा सकता है |
महापरुषों के जीवन पर दृष्टि डालें | जिन्होंने समाज में बड़े-बड़े परिवर्तन किए, वे स्वयं बलवान व्यक्ति थे | स्वामी विवेकानंद, दयानंद, रामतीर्थ, महाराणा प्रताप, शिवाजी, भगवान् कृषण, प्रुशोतम राम, युधिष्ठिर, अर्जुन सभी शक्तिशाली महापरुष थे | वे किसी-न-किसी प्रकार की शरीरक विद्या में अग्रणी थे | इसी कारण वे यशस्वी बन सके | बीमार व्यकित तो स्वयं ही अपने ऊपर बोझ होता है |

खेल-भावना का विकास – खेल-भावना का अर्थ है – हार-जीत में एक-समान रहना | इसी से आदमी दुश-सुख में एक-समान रहना शीखता है | यह खेल-भावना खेलों द्वारा सीखी जा सकती है | रोज़-रोज़ हारना और हर को सहजता से झेलना, रोज़-रोज़ जितना और जीत को सहजता से लेना-ये दोनों गुण की देन हैं | अतः खेल जीवन के लिए अनिवार्य है |




बीजिंग अलोंपिक में भारत

बीजिंग अलोंपिक का परिचय – 29वें अलोंपिक खेल चीन के बीजिंग नामक महानगर में आयोजित किय गए | इनका सुभारंभ 08-08-08 को रात के 8 बजकर 8 मिनट 8 सैकंड पर चीनी राष्ट्रपति हु जिंताओं ने किया | 90000 से अधिक दर्शकों की उपस्थिति में इसका भव्य उद्घाटन हुआ | इसमें अब तक के सबसे अधिक 205 देशों के सबसे अधिक 302 खेलों में 11000 (सर्वाधिक) खिलाडियों ने भाग लिया | चीन के 639 खिलाडियों का दल सबसे बड़ा था |

भारतीय दल के खिलाड़ी – भारतीय दल में 56 खिलाड़ी थे | उन्होंने कुल 12 प्रतियोगिताओं में भाग लिया | इनमें निशानेबाजी, कुश्ती तथा मुक्केबाजी के एक-एक खिलाड़ी सल्फल होकर लौटे | बैडमिंटन, टेनिस, टेबल टेनिस, एथलेटिक्स, रोइंग, तैराकी, तीरंदाजी के खिलाड़ी सल्फ्ना नहीं पा सके | भारत के खिलाडियों की कम संख्या होना चिंताजनक है | उनके पदकों की संख्या का होना भी उत्साहप्रद नहीं है | परंतु पहली बार तीन पदक प्राप्त करनी आशाजनक है | इससे पहले भारत ने तीन पदक कभी नहीं जीते थे | लगता है, यहाँ से भारतीय खिलाडियों की विकास-गाथा शुरू होगी |

स्वर्ण-पदक – भारत में एकमात्र स्वर्णपदक निशानेबाजी में आया है | इससे जितने का शेत्र पंजाब में चंडीगढ़ के 25 वर्षीय खिलाड़ी अभिनव बिंद्रा को जाता है | उन्होंने 10 मीटर एयर रायफल में स्वर्ण पदक जीतकर भारत का पहला एकल स्वर्णपदक विजेता होने का गौरव प्राप्त किया | उन्होंने 11 अगस्त, 2008 को चीन तथा फिनलैंड के निशानेबाजों को पछाड़ते हुए यह उपलब्धि प्राप्त की | उनकी विजय का समाचार सुनते ही भारत में ख़ुशी की लहर दौड़ गई | राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री से लेकर सामान्य जनता ने उन्हें जोरदार बधाइयाँ दीं | भारत सरकार, पंजाब सरकार, हरियाणा, बिहार, उतराखंड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, उड़ीसा, मध्यप्रदेश, तमिलनाडु सरकारों ने उन पर पुरस्कारों ने उन पर पुरस्कारों की वर्षा कर दी | उद्योगपति पक्ष्मी मितल ने उन्हें डेढ़ करोड़ का पुरस्कार प्रदान किया |

कांस्य पदक – इस बार कुश्ती में दिल्ली (नजफगढ़) के खिलाड़ी सुशील कुमार ने 66 किलोग्राम वर्ग में बेलारुम, अमेरिका तथा कजाख्स्तान के पहलवानों को हराकर भारत के लिए रजत पदक जीता | परिणामस्वरुप सीलन-भरे कमरे में दिन गुजारने वाला सुशील कुमार भी करोड़ों रुपयों का मालिक हो गया | दिल्ली, हरियाणा तथा अन्य सरकारों ने उस पर नोट-वर्षा की |

कांस्य पदक लाने वालों में एक अन्य महतवपूर्ण नाम है – हरियाणा (भिवानी) के मुक्केबाज विजेंदर सिंह का | मॉडलिंग के शौकीन विजेंदर ने 75 किलोग्राम वर्ग में क्यूबाई मुक्केबाज से संघर्ष करते हुए कांस्य पदक प्राप्त किया | उसे भी हरियाणा ने 50 लाख रूपये, इस्पात मंत्रालय ने 10 लाख रूपये, रेल तथा वायु-यात्रा की मुफ्त सुविधा के अतिरिक्त अन्य अनेक पुरस्कार दिए गए | इस बार की एक सफलता यह भी रही कि हॉकी के क्षेत्र में सतेंद्र सिंह को लगातार दूसरी बार अंपायर की भूमिका प्रदान की गई |

असफल खिलाड़ी – भारत के असफल खिलाडियों की सूचि बहुत लंबी है | आठ बार स्वर्ण पदक जितने वाली हॉकी टीम बीजिंग के लिए क्वालीफाई ही नहीं कर पाई | पिछली बार के रजत पदक विजेता राज्यवर्द्धन सिंह राठौर 15वें स्थान पर सिमट गए | लिएंडर पेस और महेश भूपति की ‘इंडियन एकस्प्रैस’ जोड़ी क्वाटर्र फाइनल से आगे नहीं बढ़ सकी | सानिया मिर्ज़ा, नेहा अग्रवाल, सुनीता राव, डोला बैनर्जी जैसे खिलाड़ी कुछ कर नहीं सके |

निष्कर्ष – कुल मिलाकर बीजिंग अलोंपिक का संदेश यही है कि भारतीय खेलों का सुर्यद्य हुआ है | पहला एकल स्वर्ण निराह्सा की काली घटा तोड़कर निकल आया है | पहली बार पदकों की संख्या तीन हुई है | यह संकेत है कि आने वाला कल भारतीय खेलों के लिए स्वर्णिम है |




अलोंपिक खेलों में भारत 

भूमिका – पिछले हजार वर्षों का गुलाम भारत अगर हँस-खेल न पाया हो तो कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए | परतंत्र भारत में खेलों का विकास नहीं पाया | हमारे खिलाडियों को विश्वस्तरीय सुविधाएँ ही नहीं सामान्य सुविधाएँ भी नहीं मिल सकीं | आज़ादी के बाद भारत को गरीबी, जनसंख्या, निरक्षरता आदि बीमारयों ने एसा घेरा कि वह खेल-कूद की और पर्याप्त ध्यान नहीं दे पाया | यही कारण है कि अरबों की आबादी होने के बावजूद भारत के खिलाड़ी विश्व-खेलों में धाक नहीं जमा पाए |

अलोंपिक में भारत का इतिहास – भारत ने अधिकारिक रूप से 1920 के अलोंपिक खेलों में पहली बार भाग लिया था | 1928 के अलोंपिक में हमने हॉकी में स्वर्ण पदक प्राप्त किया | उसके बाद 1932, 1936, 1948, 1952, 1956, 1964 और 1980 के अलोंपिक में हॉकी में वह दबदबा कायम रहा | एक ही खेल में आठ स्वर्णपदक पाकर एक प्रकार से हॉकी का नाम भारत के साथ जुड़ गया | भारत के कप्तान ध्यानसिंह को हॉकी का जादूगर कहा गया | 1980 के बाद एस खेल प्र काले बदल छाने लगे | 2008 के चीन अलोंपिक में तो भारतीय हॉकी टीम क्वालीफाई ही नहीं कर पाई | हॉकी के नाम पर कहने को यह गौरव हमारे पास रहा कि भारतीय अंपायर सतेन्द्र सिंह को लगतार दुरी बार अलोंपिक खेलों में अंपायर होने का अवसर मिला |

व्यक्तिगत पदक – व्यक्तिगत खेलों में पदक प्राप्त करने की कोई सुदीर्घ परंपरा भारत की झोली में नहीं है | सन 1952 में पहली बार के.डी. जाधव ने हेलसिंकी अलोंपिक में कुश्ती में कांस्य पदक प्राप्त किया था | उसके बाद हमारे पहलवान विजय के पायदान पर चढ़ने के लिए 56 साल लंबी प्रतीक्षा करते रहे | 2008 के बीजिंग अलोंपिक में डेल्ही के सुशिल कुमार ने फ्री-स्टाइल कुश्ती के 66 किलोग्राम वर्ग में कांस्य पदक प्राप्त किया | उन्होंने रेपचेज की सुभिदा का लाभ उठाते हुए बोलारुस, अमेरिका और कजाख्स्तान के पहलवानों को हराकर यह पदक भारत के नाम किया |

भारत को टेनिस का एकमत्र कांस्य पदक 1996 के अलोंपिक में प्राप्त हुआ था | भारोतोलन में भी भारत ने एकलौता कांस्य पदक प्राप्त किया है | यस पदक 2000 के अलोंपिक खेलों में हरियाणा के ही मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने 75 किलोग्राम वर्ग में सेमी फाइनल में जगी बनाई तथा क्यूबाई मुक्केबाज से संघर्ष करते हुए रजत पदक प्राप्त किया |

निशानेबाजी का खेल पिछले दो अलोंपिक में भारत के लिए फलदायी सिद्ध हुआ है | 2004 के अलोंपिक में राजस्थान के राज्यवर्द्धन सिंह राठौर ने डबल ट्रैप निशानेबाजी में रजत पदक प्राप्त किया था | इस बार पंजाब के अभिनव बिंद्रा ने 10 मीटर एयर रायफल स्पर्धा में स्वर्णपदक प्राप्त करके भारत के लिए नया इतिहास रच दिया है | वे एकल स्पर्द्धामें पहला स्वर्णपदक जीतने वाले पहले और अकेले यशस्वी निशानेबाज खिलाड़ी हो गए हैं | उन्होंने निराशा में डूबे भारत के लिए आशा की किरण जगाई है | भारत भी विश्व-खेलों में पाँव जमा सकता है, इसका विश्वास उन्होंने जग दिया है | आशा है, भारत के उभरते हुए खिलाड़ी इस परंपरा को और अधिक बाढाएँगे |

निष्कर्ष – यह सच है कि भारत जैसे निशल देश के लिए दो-तीन पदक ऊँट के मुँह में जीरा भी नहीं है | इस बार 12 खेलों के लिए 56 खिलाड़ियों का एक दल बीजिंग अलोंपिक में गया था | उसमें से एक स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य पदक हुआ है | यस परिणाम बहुत आशाजनक न होते हुए भी पिछले सालों की तुलना में प्रेरणादायी है |


Saturday, October 08, 2016




 To
The S.D.O. (Electricity),
P.S.E.B.
X Y Z City.

Subject : Complaint against frequent breakdown of electricity in Rainak Bazaar Area.
Sir,
I, on behalf of my locality, with to draw your kid attention towards frequent breakdown of electricity in Rainak Bazar Area. The low voltage and frequent tripping of electricity in this area has become almost a daily routine. During the three hour daily cut, no one expects the supply of electricity. But the unannounced frequent breakdown of electricity is simply nightmarish. At night, one is left half through the meals at the dining table. During the day, there is no rest, no comfort, no protection from the sultry weather.

Besides this, low voltage of electricity has damaged electric lamps, tubes and other electric appliances. Fans do not give proper air owing to low voltage. Many times complaints have been lodged with your office but no permanent solution to this menace has been found. It is a pity that even when there is supply of electricity in other localities, our locality remains dark. The wires through which electricity is supplied to our locality, are old and worn out, the transformer where from the electricity is supplied to us, is also an old one. There is always some defect in wires or in the transformer. In fact, all the wires as well as the transformer need to be replaced. Only then the proper supply of electricity can be restored to this locality.

I hope you would look into the matter at the earliest and redress our grievance.
Thanking you,

Yours faithfully,
Parvez.
Auguest 25, 20….


Gyan Parchar Followers

Contact Us

Name

Email *

Message *

CNET News.com Feed Technology News

Google+ Followers

Popular Posts

Follow on Facebook